Songs of Shailendra::
archives

Nadira

This tag is associated with 4 posts

१९६० – दिल अपना और प्रीत पराई – अंदाज़ मेरा मस्ताना | 1960 – Dil Apna Aur Preet Parai – andaz mera mastana

अंदाज़ मेरा मस्ताना, माँगे दिल का नज़राना ज़रा सोच के आँख मिलाना, हो जाए न तू दीवाना कि हम भी जवाँ हैं, समाँ भी जवाँ है न फिर हमसे कहना, मेरा दिल कहाँ है, मेरा दिल कहाँ है प्यार की किताब हूँ मैं, सच हूँ फिर भी ख़्वाब हूँ मैं देखकर सुरूर आए, वो अजब … Continue reading

१९५५ – श्री ४२० – मुड़-मुड़के ना देख मुड़-मुड़के | 1955 – Shree 420 – mud mud ke na dekh mud mud ke

Film Shree 420 Music Director Shankar-Jaikishan Year 1955 Singer(s) Asha, Manna Dey Audio Video On Screen Nadira, Raj Kapoor मुड़-मुड़के ना देख मुड़-मुड़के मुड़-मुड़के ना देख मुड़-मुड़के ज़िंदगानी के सफ़र में तू अकेला ही नहीं हैं हम भी तेरे हमसफ़र हैं मुड़-मुड़के ना देख मुड़-मुड़के आए-गए मंज़िलों के निशाँ लहराके झूमा, झुका आसमाँ लेकिन रुकेगा … Continue reading

१९६० – दिल अपना और प्रीत पराई – अजीब दास्ताँ है ये, कहाँ शुरु कहाँ ख़तम | 1960 – Dil Apna Aur Preet Parai – ajeeb dastan hai ye, kahan shuru kahan khatam

Film Dil Apna Aur Preet Parai Music Director Shankar-Jaikishan Year 1960 Singer(s) Lata Audio Video On Screen Meena Kumari, Nadira, Raj Kumar अजीब दास्ताँ है ये, कहाँ शुरु कहाँ ख़तम ये मंज़िलें हैं कौनसी, न वो समझ सके न हम ये रौशनी के साथ क्यूँ, धुआँ उठा चराग़ से ये ख़्वाब देखती हूं मैं, कि … Continue reading

१९६५ – छोटी छोटी बातें – कुछ और ज़माना कहता है | 1965 – Chhoti Chhoti Baaten – kuchh aur zamana kehta hai

कुछ और ज़माना कहता है, कुछ और है ज़िद मेरे दिल की मैं बात ज़माने की मानूँ, या बात सुनूँ अपने दिल की कुछ और ज़माना कहता है दुनिया ने हमें बेरहमी से ठुकरा जो दिया, अच्छा ही किया नादाँ हम समझे बैठे थे, निभती है यहाँ दिल से दिल की कुछ और ज़माना कहता … Continue reading