Songs of Shailendra::
archives

Jhuk Gaya Aaasman

This tag is associated with 1 post

१९६८ – झुक गया आसमान – सच्चा है गर प्यार मेरा सनम | 1968 – Jhuk Gaya Aaasman – sachcha hai gar pyar mera sanam

सच्चा है गर प्यार मेरा सनम, होगे जहाँ तुम वहां होंगे हम ये धड़कनें भी अगर जाएँ थम, जब भी पुकारो सदा देंगे हम ये अजब-सा राज़ है, ये अजीब बात है अपना प्यार तब से है, जब से कायनात है मरके भी ये प्यार होगा ना कम, होगे जहाँ तुम वहां होंगे हम सच्चा … Continue reading