Songs of Shailendra::
archives

Hare Kaanch Ki Choodiyan

This tag is associated with 3 posts

१९६७ – हरे काँच की चूड़ियाँ – पँछी रे ओ पँछी | 1967 – Hare Kaanch Ki Choodiyan – panchhi re o panchhi

पँछी रे ओ पँछी, उड़ जा रे ओ पँछी मत छेड़ तू ये तराने, हो जाएँ ना दो दिल दीवाने पँछी रे ओ पँछी, उड़ जा रे ओ पँछी हम क़रीब आ गए, मंज़िलों को पा गए भा गया हमें कोई, हम किसीको भा गए पँछी रे ओ पँछी, उड़ जा रे ओ पँछी … … Continue reading

१९६७ – हरे काँच की चूड़ियाँ – हाय कहाँ चला रे | 1967 – Hare Kaanch Ki Choodiyan – haay kahan chala re

कहाँ चला रे, कहाँ चला रे कहाँ तेरा कौन तेरी राह तके रे हमको इतना बता जा कहाँ चला रे, कहाँ चला रे कौन दूर-नगरी के छोर से, खींचे तोहे जादू के ज़ोर से बाँध लिया किसने जिया तेरा, बड़े-बड़े नैनों की डोर से कहाँ चला रे, कहाँ चला रे … झूम-झूम झोंका बयार का, … Continue reading

१९६७ – हरे काँच की चूड़ियाँ – धानी चुनरी पहन … हरे काँच की चूड़ियाँ | 1967 – Hare Kaanch Ki Choodiyan – dhaani chunari pehan … hare kaanch ki choodiyan

Film Hare Kaanch Ki Choodiyan Music Director Shankar-Jaikishan Year 1967 Singer(s) Asha Audio Video On Screen Naina Sahu, Biswajeet धानी चुनरी पहन, सजके, बनके दुल्हन जाऊँगी उनके घर, जिनसे लागी लगन आएँगे जब सजन, जीतने मेरा मन कुछ न बोलूँगी मैं, मुख न खोलूँगी मैं बज उठेंगी हरे काँच की चूड़ियाँ ये कहेंगी हरे काँच … Continue reading