Songs of Shailendra::
archives

Aas

This tag is associated with 5 posts

१९५३ – आस – मैं हूँ तेरे सपनों की रानी | 1953 – Aas – main hoon tere sapnon ki rani

Film Aas Music Director Shankar-Jaikishan Year 1953 Singer(s) Lata Audio Video On Screen मैं हूँ तेरे सपनों की रानी, तूने मुझे पहचाना ना हरदम तेरे दिल में रही मैं, फिर भी रहा तू अनजाना मैं जो हँस दूँ, तेरी दुनिया में चमकें चम-चम तारे मैं जिन रस्तों से आती हूँ, हट जाते हैं अँधियारे रूप … Continue reading

१९५३ – आस – इतना प्यार करेगा कौन, माँ करती जितना | 1953 – Aas – itna pyar karega kaun, maa karti jitna

Film Aas Music Director Shankar-Jaikishan Year 1953 Singer(s) Lata Audio Video On Screen Kamini Kaushal इतना प्यार करेगा कौन, माँ करती जितना इतना प्यार करेगा कौन, माँ करती है जितना पलकों की छाया में पाले, जान लगाकर जान सँभाले इतना ध्यान धरेगा कौन, माँ धरती जितना इतना प्यार करेगा कौन और तो सब मतलब के … Continue reading

१९५३ – आस – हम पे दया रखना, हे दाता | 1953 – Aas – hum pe daya rakhna, he daata

Film Aas Music Director Shankar-Jaikishan Year 1953 Singer(s) Lata Audio Video On Screen Kamini Kaushal हम पे दया रखना, हे दाता, हमपे दया रखना और किसीसे आस करें क्या, जग झूठा नाता, हे दाता हम पे दया रखना, हे दाता, हमपे दया रखना तुम न होते जग न होता, बिखरे मोती कौन पिरोता जीव बिचारा … Continue reading

१९५३ – आस – देखो जी देखो, एक बार इस तरफ़ देखो | 1953 – Aas – dekho ji dekho, ek baar is taraf dekho

Film Aas Music Director Shankar-Jaikishan Year 1953 Singer(s) Lata, Mukesh Audio Video On Screen Kamini Kaushal, Shekhar देखो जी देखो, एक बार इस तरफ़ देखो ये दिल बना है शीशे का, पत्थर पे इसको मत फेंको छोड़ो जी छोड़ो, ऐसी बनावटी बातें हमने तो ऐसी उलझन में काटी हैं सैंकड़ों रातें बहारों को आए, हुए … Continue reading

१९५३ – आस – चाहे नैना चुराओ चाहे दामन बचाओ | 1953 – Aas – chahe naina churao chahe daaman bachao

Film Aas Music Director Shankar-Jaikishan Year 1953 Singer(s) Lata, Talat Audio Video On Screen Kamini Kaushal, Shekhar चाहे नैना चुराओ, चाहे दामन बचाओ प्यार होके रहेगा, प्यार होके रहेगा चाहे नैना चुराओ ये अनजाने रास्ते, ये नगरी अनजानी इस चक्कर से ना बचे, क्या ज्ञानी क्या ध्यानी तुम इन प्यार की गलियों से चाहे बच-बचके … Continue reading